PM मोदी करेंगे वाराणसी में पहले Floating Pool का उद्घाटन

नित्य नवीन विकास व परिवर्तनों से आकर्षित करती विश्व की प्राचीनतम जीवित नगर काशी में अब एक और उपलब्धि जुड़ने जा रही है। जो न केवल वाराणसी (Varanasi) में पर्यटन का नया बिंदु होगा अपितु धार्मिक दृष्टि से भी महत्वपूर्ण होगा।

Floating Pool

मित्रों जैसा कि आप सभी जानते हैं कि वाराणसी में ऐसे ढेरों चीजें हैं जिसको देखने के लिए समस्त संसार देश व विदेश से कोने-कोने से लोग दर्शनार्थी पर्यटन व श्रद्धालु सभी खींचे चले आते हैं जिसमें की गंगा घाट, काशी विश्वनाथ मंदिर, सारनाथ, रामनगर का किला इत्यादि सम्मिलित हैं।

काशी को मंदिरों का शहर घाटों का शहर आदि भी कहते हैं क्योंकि यहां पर बाबा विश्वनाथ का द्वादश ज्योतिर्लिंग काशी विश्वनाथ धाम (Kashi Vishwanath Dham) स्थित है तथा गंगा किनारे वाराणसी की तटबंध स्वरूप 84 घाट भी स्थित है तथा इसी क्रम में वाराणसी को नया घाट पचासी का घाट मिलने वाला है जिसका कि नाम है नमो घाट (Namo Ghat) इस नमो घाट की जानकारी हमने आपको भी दिए हैं तथा इसी घाट पर अब एक और नई उपलब्धि जुड़ने वाली है जो होगी फ्लोटिंग स्विमिंग पूल की जिसको की तैरता हुआ कुंड भी कहा जा सकता है।

आज हम आपको इस स्विमिंग पूल अर्थात फ्लोटिंग जेट्टी पर बने स्विमिंग पूल जिसको कि कुंड भी कहा जा सकता है उसकी विस्तृत ग्राउंड रिपोर्ट तथा वर्तमान परिस्थिति एवं प्रोजेक्ट की संपूर्ण जानकारी देने जा रहे हैं आइए जानते हैं कि यह कैसा बन रहा है वह आपको हम बता दें कि यह वाराणसी के राजघाट के निकट नमो घाट जिसका कि नाम खिड़कियां घाट (Khirkiya Ghat) से परिवर्तित करके नमो घाट किया गया है उसी पर उसे घाट के आगे एक अत्याधुनिक जेट्टी पर फ्लोटिंग पुल के लिए निर्माण कार्य तीव्र गति से संचालित है।

Also Read
अति शीघ्र देश को मिलने वाला है नया संसद भवन, देखें Central Vista की Latest Update

यूपी के सबसे लम्बे एक्सप्रेसवे पर सामने आई बड़ी खबर

यहां पर ढेरों श्रमिक इस फ्लोटिंग स्विमिंग पूल के निर्माण कार्य में संलग्न है इस समय जेट्टी के ऊपर लोहे के एंगल के कटिंग करके उसके स्ट्रक्चर को बनाया जा रहा है तथा उसे लोहे के स्ट्रक्चर पर जैसा कि हम आपको छू करके दिखाने का प्रयास कर रहे हैं इस प्लाईवुड की प्रकार से जो एक के बहुत ही मजबूत मटेरियल से बनाया गया है उसको इस पर जोड़ा जा रहा है तथा इसके बन जाने के पश्चात इसे गंगा नदी पर रख दिया जाएगा यह तैरता हुआ दिखेगा और इसके साथ इस पर कई सारी चीजें और भी होंगी।

बता दें कि यदि आप को तैरना नहीं आता और गंगा में आस्था की डुबकी लगाने से डरते हैं तो अब घबराने की बात नहीं है। क्यों कि उत्तर प्रदेश की योगी सरकार आप को गंगा में सुरक्षित स्नान कराने का प्रबंध कर रही है।

इस परियोजना के अंतर्गत पर्यटन की नई पहचान बना नमो घाट पर फ्लोटिंग जेट पर बाथ कुंड, चेंजिंग रूम समेत कई सुविधा अति शीघ्र ही श्रद्धालुओं को उपलब्ध किया जाना है।

बता दें कि काशी में मां गंगा में स्नान और बाबा विश्वनाथ का दर्शन सदियों से सनातनी परंपरा रही है। अविरल व निर्मल मां गंगा का काशी में विशेष महात्म है। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ हर उम्र और दिव्यांगजन के लिए गंगा में श्रद्धा की डुबकी लगाने लिए विशेष प्रबंध कर रही है. इसी लिए नमो घाट के सामने अविरल निर्मल गंगा की धारा में फ्लोटिंग जेटी पर बाथ कुंड बनाया जा रहा है।

Indian SRJ
Drone view of Namo Ghat

जानकारी हेतु आपको बता दें की वाराणसी स्मार्ट सिटी द्वारा लगभग 2 करोड़ की लागत से नमो घाट के सामने गंगा में फ्लोटिंग जेटी, बाथ और चेंजिंग रूम बनाया जा रहा है। इसमें दो बाथ कुंड होगा जो लगभग चार से पांच फ़िट गहरा होगा। इसके नीचे स्टेनलेस स्टील की जाली लगी होगी जिससे कोई डूबे नहीं। पूरी जेटी दिव्यांगों के अनुकूल रहेगी, जिससे वे भी गंगा स्नान कर सकें इसके लिए यहां पर जो रैंप है उसको और नीचे तक विस्तार दिया जा रहा है जिसमें की पोकलेन मशीन लगी हुईं है।

इसके अतिरिक्त यहां पर 7 चेंजिंग रूम होगा, जिसमें 3 पुरुष, 3 महिलाओं और 1 वीआईपी चेंजिंग रूम होगा। यहां पर बुलार्ड लाइट जेटी की सुंदरता बढ़ाएंगी। पर्यटकों की सुविधा के लिए जेटी पर क्रूज़ और अन्य बोट भी आ सकेंगी। किसी भी घटना या फिर दुर्घटना से निपटने के लिए रिलीफ़ बोट भी जेटी के दोनों छोर पर रहेगी। जेटी पर खड़े होकर पर्यटक धनुषाकार घाटों और नवनिर्मित नमो घाट का मनमोहक दृश्य देख सकेंगे।

जानकारी हेतु बता दें कि खिड़किया घाट पर पायलट प्रोजेक्ट के अंतर्गत जेटी लगायी जा रही है और यह यदि सफल रही तो अन्य घाटों पर भी इसका प्रबंध किया जाएगा।

Also Read
श्री राम की प्रतिमा ही नहीं यूपी में अब लक्ष्मण की प्रतिमा का निर्माण भी शुरू

अयोध्या श्री राम मंदिर के लिए बना नया मार्ग

वास्तव में काशी आने वाले लोगों की संख्या बढ़ने के साथ ही गंगा में डुबकी लगाने वालों की संख्या भी बढ़ोतरी हुई है। पायलट प्रोजेक्ट के तौर पर नमो घाट को लिया गया है। नए रूप में संवारे गए खिड़किया घाट (नमो घाट) में विशेष व्यवस्था की जा रही है।

बता दें कि काशी के खिड़किया घाट को टूरिस्ट डेस्टिनेशन के रूप में विकसित करने के लिए कई निर्माण कार्य हुआ हैं. यहां नमस्कार की मुद्रा में 3 स्कल्पचर की कारण से ‘नमो घाट’ के नाम से परिवर्तित किया गया है।

जानकारी हेतु बता दें कि पीएम नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र में ये सौगात शिघ्र ही यहां आने वालों को मिलेगी। क्यों कि आगामी वाराणसी आगमन पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी इस नमो घाट के उद्घाटन के साथ इस फ्लोटिंग स्विमिंग पूल का भी उद्घाटन करने वाले हैं।

तथा मुख्य सचिव दुर्गा शंकर मिश्र व डीजीपी देवेंद्र सिंह ने नमो घाट का निरीक्षण किया। इस समयावधि में वाराणसी मंडलायुक्त दीपक अग्रवाल, नगर आयुक्त प्रणय सिंह, वीडीए उपाध्यक्ष ईशा दूहन भी उनके साथ उपस्थित रहे। दोनों अधिकारियों ने परियोजना के बारे में पूरी जानकारी ली।

Indian SRJ
Namo Ghat

सबसे महत्वपूर्ण है कि गंगा की निर्मल धारा में स्नान की ये व्यवस्था दिव्यांग जनों के लिए विशेषतः अनुकूल होगा। अभी कई बार गंगा के घाट पर स्नान में असुविधा की कारण से दिव्यांगजन गंगा में नहीं उतरते थे। परन्तु अब जेटी और बाथ कुंड से घेर कर सुरक्षित बनाने के अतिरिक्त रिलीफ बोट भी घाट पर जेटी के निकट रहेगी तो अनेकों सुविधाएं उपलब्ध रहेगी।

यह भी बता दें कि नगर निगम के अधिकारियों के अनुसार ये दो दिन में ये पूरी तरह बनकर तैयार हो जाएगा। फ्लोटिंग बाथ जेटी में एक साथ 10 से 20 लोग स्नान कर सकते हैं। इस पर लगभग दो करोड़ रुपये खर्च हुए हैं।

मित्रों यदि उपरोक्त दी हुई वाराणसी की फ्लोटिंग स्विमिंग पूल की जानकारी आपको पसंद आई हो तो कमेंट बाॅक्स में हर हर महादेव अवश्य लिखें।

अधिक जानकारी के लिए वीडियो देखें

video

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *