राम मंदिर से पहले तैयार हुआ विश्व का सबसे बड़ा महामंदिर – Swarved Mahamandir

Swarved Mahamandir Varanasi : मित्रों जैसा की हम जानते हैं कि उत्तर प्रदेश में ऐसे कई स्थान हैं जोकी धार्मिक दृष्टि से अत्यंत महत्वपूर्ण हैं जैसे की अयोध्या, मथुरा व काशी, तथा काशी की बात करें तो यह अपने आप में और भी विशेष है। काशी विश्व की प्राचीनतम जीवित नगर तो है ही एवं यह भगवान शिव की प्रीय नगरी है जोकी भोलेनाथ के त्रिशूल पर विराजमान है तथा गंगा नदी किनारे द्वादश ज्योतिर्लिंग के अतिरिक्त सारनाथ में भगवान बुद्ध की प्रथम उपदेश स्थली भी है, परंतु बाबा की नगरी में एक और उपलब्धि जुड़ रही है और वो है विशालतम् मेडिटेशन सेंटर अर्थात स्वर्वेद महामंदिर।

Swarved Mahamandir Varanasi
Swarved Mahamandir Varanasi

Swarved Mahamandir Varanasi : हिमालय की गुफाओं में तप साधना के माध्यम से अनुभूत ज्ञान को स्वर्वेद के रूप में अभिव्यक्त करने वाले महर्षि सदाफलदेव महाराज जी के विहंगम योग संस्थान की ओर से वाराणसी के उमरहा में महामंदिर का निर्माण हो रहा है। यह स्थान वाराणसी नगर से लगभग 14 किलोमीटर दूर गाजी़पुर हाइवे पर उमरहा नामक क्षेत्र में स्थित है।

विश्व में अद्वितीय स्वर्वेद महामंदिर की अधिक जानकारी के लिए आपको बता दें की गाजी़पुर हाइवे पर उमरहां स्थित लगभग 78,800 वर्ग फीट के विस्तारित परिसर में बन रहे महामंदिर का निर्माण 68,000 वर्गफीट के क्षेत्रफल में किया जा रहा है। तथा इस महामंदिर की ऊँचाई है 180 फीट एवं 268 पिलरों पर खड़े इस महामंदिर में सात तल हैं अर्थात 7 मंजिला है यह महामंदिर, तथा इसमें चार लिफ्ट भी हैं।

Read Also
राम मंदिर के साथ अयोध्या को मिलेगी बड़ी सौगात – Ayodhya Railway Station Redevelopment

त्रेतायुगीन बन रहा है राम मंदिर दर्शन मार्ग – Ram Janmbhoomi Path Ayodhya

स्वर्वेद महामंदिर के शीर्ष पर 125 पंखुड़ियों वाले कमल भी लगे हैं। जिन्हें की गुजरात के नौसारी से मंगाया गया है। महामंदिर के ऊपरी भाग में कुल 9 कमल पुष्प की बनी आकृति मनुष्यों के शरीर के 9 चक्रों प्रदर्शित करते हैं।

सबसे महत्वपूर्ण है कि विहंगम योग संस्थान की स्वर्वेद महामंदिर नामक इस साधना स्थली में एक साथ 20 हजार लोग साधना कर सकेंगे। महामंदिर की बाहरी दीवारों पर गज समूह, ऋषिकाएं व साधक हैं तो महामंदिर के भीतर पांच तलों की दीवारों पर स्वर्वेद के दोहे उकेरे गए हैं। इसके भीतरी दीवारों पर श्वेत मकराना मार्बल पर उकेरा गया है। जिनकी की वर्तमान परिस्थिति आपके समक्ष प्रस्तुत है। इसके अतिरिक्त दो तलों पर वेद की ऋचाएं, उपनिषद, गीता के श्लोक और मानस की चौपाइयां और कबीर की वाणी भी होगी।

Swarved Mahamandir Varanasi
Swarved Mahamandir Varanasi

इसकी अधिक जानकारी के लिए बता दें की मंदिर के मार्बल पत्थरों पर अंकित महर्षि सदाफल देव जी के महाग्रंथ के 3000 से अधिक दोहे लगाए जाएंगे। मकराना से आए मार्बल पत्‍थरों में दोहों को मशीन से काटकर उकेरा गया है तथा ओमान से आए विशेष पत्थर से अक्षरों को काटकर भरा गया है।

यही नहीं विश्व में अद्वितीय स्वर्वेद महामंदिर में 150 चित्रमय झांकियों के माध्यम से पुरातन भारतीय संस्कृति का दर्शन भी कराया जाएगा। सैैंड स्टोन पर आत्मा-परमात्मा, ऋषि संस्कृति, विश्व को भारत की देन योग, आयुर्वेद, शून्य समेत विभिन्न झांकियां होंगी। हर झांकी को छह गुणित चार वर्ग फीट में बनाया गया है जो दीवारों पर लग चुके हैं। जिनकी की वर्तमान परिस्थिति आपके समक्ष प्रस्तुत है। इनके अतिरिक्त छठें तल पर दो आडिटोरियम भी हैं। हर एक में 238 लोग बैठ सकेंगे।

Read Also
शुरू हुई नई बुलेट ट्रेन परियोजना Delhi Amritsar Bullet Train

तीन दशक पुरानी समस्या का अब होगा समाधान

अधिक जानकारी के लिए बता दें की मंदिर परिसर में फव्वारे, लेजर शो भी होगा। ग्राउंड फ्लोर पर कृत्रिम गुफाएं भी बन रही हैं। तथा बाहरी भाग को गुलाबी और भीतरी भाग को सफेद रखा जाएगा। मुख्य रूप से इस महामंदिर का निर्माण कार्य गुजरात के कारीगरों द्वारा हुआ है।

बता दें की इस महामंदिर के निर्माण में तीन लाख घन फीट सफेद मार्बल और सैैंड स्टोन का उपयोग किया जा रहा है। जिन्हें की भवन के फ़र्श व दीवार आदि पर प्रयोग किया गया है।

यही नहीं धाम में महर्षि सदाफलदेव जी महाराज की 113 फीट ऊंची दिव्य प्रतिमा भी लगाई जाएगी। इसमें प्लेटफार्म 32 फीट का होगा तथा प्रतिमा की ऊंचाई 81 फीट होगी। इसे भरतपुर (राजस्थान) के सवा लाख घन फीट गुलाबी पत्थरों से आकार दिया जाएगा।

Swarved Mahamandir Varanasi
Swarved Mahamandir Varanasi

अब यदि महामंदिर के निर्माण व लागत की अधिक जानकारी दें तो आपको बता दें की 7 मंजिला महामंदिर के निर्माण की लागत है लगभग 50 करोड़ रुपये जिसमें की 20 हजार लोग एक साथ मेडिटेशन (ध्यान) कर सकेंगे तथा इसका निर्माण वर्ष 2004 आरंभ है। इस गणना के अनुसार अब तक लगभग 2 दशक हो चुके हैं।

यह तो हुई स्वर्वेद महामंदिर की विशेषताएँ, अब यदि आपको इसके लाभ और अधिक जानकारी दें तो बता दें की यहाँ पर वैदिक हेरीटेज सेंटर के अंतर्गत 5100 छात्रों को निःशुल्क शिक्षा देने के लिए विद्यालय भी खोला जाएगा। तथा महामंदिर में वृद्धाश्रम, गोशाला, योगासन और अायुर्वेद प्रशिक्षण केंद्र भी बनाए जा रहे हैंं। इसके अतिरिक्त अतिथियों के रुकने के लिए यहाँ पर 32 लग्जरी कमरे भी होंगे।

Read Also
भूल जाओ बनारस के घाट, अब नया सुपर घाट जुड़ा सीधा आसमान से

आ गई वो शुभ घड़ी रामलला होंगे विराजमान – Ayodhya Ram Mandir

जानकारी के लिए बता दें की स्वर्वेद ट्रस्‍ट का पूरे भारत में 6 मुख्य आश्रम और 200 योग साधना केंद्र है।

महर्षि सदाफल देव महाराज को समर्पित स्वर्वेद महामंदिर संतों-ऋषियों से विरासत में मिली भारतीय संस्कृति और ज्ञान को सहेजने के उद्देश्य से बनाया जा रहा है। यह स्थापत्य व संरचना की दृष्टि से भी अद्वितीय होगा। प्राचीन दर्शन, अध्यात्म और आधुनिक वास्तुकला का मेल, स्वरवेद महामंदिर वास्तव में आने वाली कई पीढ़ियों के लिए एक ऐतिहासिक स्थल होगा। 

Swarved Mahamandir Varanasi
Swarved Mahamandir Varanasi

इसके अतिरिक्त आपको हम बता दें की वाराणसी के उमरहा स्थित स्वर्वेद महामंदिर धाम में विहंगम योग समाज के वार्षिकोत्सव में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के आने की संभावना है। दो दिवसीय उद्घाटन समारोह में पीएम नरेंद्र मोदी के वाराणसी दौरे की संभावना है। जानकारी के अनुसार स्वर्वेद महामंदिर के उद्घाटन समारोह में तीन लाख से अधिक श्रद्धालु सम्मिलित होंगे। पीएम मोदी के वाराणसी में संभावित दौरे को लेकर वाराणसी प्रशासन तैयारियों में जुट गया है।

बता दें कि लगभग दो दशक से बन रहे उमरहा स्थित स्वर्वेद मंदिर का उद्घाटन समारोह 17 और 18 दिसंबर को प्रस्तावित किया गया है। इस समयावधि में वहां 25 हजार कुंडीय यज्ञ में लगभग तीन लाख श्रद्धालुओं के सम्मिलित होने की संभावना जताई जा रही है। मंदिर प्रबंधन की माने तो उद्घाटन समारोह में पीएम मोदी को आमंत्रित किया गया है। मंदिर प्रबंधन का दावा है, कि पीएमओ से पीएम के आने को लेकर सहमति प्रदान की गई है।

Swarved Mahamandir Varanasi
Swarved Mahamandir Varanasi

महत्वपूर्ण है कि भारतीय संस्कृति और ज्ञान को सहेजने के उद्देश्य से बनाये जा रहे इस स्वर्वेद महामंदिर के निर्माण कार्य पूर्ण होने के पश्चात मंदिरों की नगरी काशी में और उपलब्धि जुड़ जाएगी जो न केवल वाराणसी अपितु उत्तर प्रदेश व भारत समेत समस्त सनातनीयों के लिए भी विशेष होगी।

मित्रों यदि आपको उपरोक्त दी हुई काशी के स्वर्वेद महामंदिर के निर्माण कार्य की जानकारी पसंद आई हो तो इष्ट देव का नाम कमेंट बाॅक्स में अवश्य लिखें एवं यदि कोई सुझाव हो वह भी बताएं, इसके अतिरिक्त यदि आप नए दर्शक हैं अथवा अभी आपने चैनल सब्सक्राइब नहीं किया है तो हमारे मनोबल में वृद्धि करने के लिए चैनल को सब्सक्राइब अवश्य करें।

अधिक जानकारी के लिए वीडियो देखें:-

वीडियो

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *