PM मोदी की वाराणसी को अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम की बड़ी सौगात

धर्म आध्यात्म व कला संगीत की रूप में विख्यात विश्व की प्राचीनतम जीवित नगर काशी में खेल को भी मिलेगा उचित स्थान। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी (Varanasi) में अब बनने लगा है अंतर्राष्ट्रीय स्तर का क्रिकेट स्टेडियम (International Cricket Stadium)

मित्रों हम सभी जानते हैं कि मोदी सरकार ने देश की आधारभूत संरचना को नवीन जीवन प्रदान करने के लिए कितना कार्य किया है, तथा यदि वाराणसी के संदर्भ में बात करी जाए तो विगत 8 वर्षों में वाराणसी का कायाकल्प ही कर दिया गया है। यह हमें बताने की भी आवश्यकता नहीं है यदि आप 2014 से पहले कभी वाराणसी आए होंगे और अब पिछले एक वर्ष में आए होंगे तो अंतर स्पष्ट हो जाता है। जिसके लिए नगर में रिंग रोड, मल्टीलेवल पार्किंगस्, हाॅस्पिटल, पार्कों का जीर्णोद्धार, गंगा घाटों का सौंदर्यीकरण, काशी विश्वनाथ धाम कारिडोर का पुरस्कार, माॅडल घाट का निर्माण, स्वक्षता का ध्यान, जन सुविधाओं व सुरक्षा की व्यवस्था आदि पर अनेक कार्य हुए हैं तथा यह निरंतर जारी भी हैं।

इसी क्रम में नगर की एक और कमी जो अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम (International Cricket Stadium) की थी अब वह भी पूरी होने वाली है। जी हां वाराणसी में शीघ्र ही एक अंतरराष्ट्रीय स्तर का नगर का अपना स्टेडियम भी होगा। 

बता दें कि स्मार्ट सिटी के अंतर्गत लगभग 400 करोड़ रुपये की लागत से तीन से चार चरणों में तीन तलीय बनने वाले सिगरा स्टेडियम में खिलाड़ियों को ओलंपिक स्तर की सुविधा मिलने वाली है। क्रिकेट खिलाड़ियों के लिए आधुनिक क्रिकेट मैदान बनेगा। 125 गुना 100 मीटर के क्षेत्रफल में चार विकेट का क्रिकेट मैदान आईसीसी के मानकों पर होगा।

स्टेडियम में नेशनल सेंटर ऑफ एक्सीलेंस (एनसीओई) के तर्ज पर शूटिंग रेंज, कुश्ती, मुक्केबाजी, तलवारबाजी और फिटनेस सेंटर की सुविधा मिलेगी। यहां पर खिलाड़ियों को ओलंपिक के लिए तैयार किया जा सकेगा।

बता दें कि सिगरा स्टेडियम के पुनर्निर्माण के शिलान्यास के लिए तैयारी जोरों पर है। बीते दिनों अधिकारियों के निरीक्षण के पश्चात स्टेडियम परिसर के भीतर और बाहर साफ-सफाई और रंगरोगन का कार्य आरंभ कर दिया गया है।

अधिक जानकारी हेतु बता दें कि वाराणसी के नगर मध्य में स्थित पहले से उपस्थित डॉ संपूर्णानंद सिगरा स्टेडियम में दो तरणताल अर्थात स्वीमिंगपूल का निर्माण किया जाएगा। इसमें से एक तरणताल ओलंपिक साइज का होगा। जबकि दूसरा तरणताल सेमी ओलंपिक साइज का होगा। यहां पर हम आपको बता दें कि इस आकार का एक तरणताल यहां पर पहले से उपस्थित है जिसमें खिलाड़ी अभ्यास करते हैं।

Also Read
काशीवासियों को खुशखबरी, वाराणसी रोपवे परियोजना ने पकड़ी रफ़्तार

CM योगी की काशी को टेंट सिटी की नई सौगात

इसके अतिरिक्त आपको बता दें कि स्टेडियम में एनसीओई के तर्ज पर आधुनिक प्रशिक्षण के लिए 10, 25 और 50 मीटर के शूटिंग रेंज का भी निर्माण होगा। कुश्ती के लिए चार कोर्ट, मुक्केबाजी के लिए 12 आधुनिक रिंग बनेंगे। तलवारबाजी के लिए 28 कोर्ट का निर्माण किया जाएगा। यहां 400 खिलाड़ी अभ्यास कर सकेंगे। व्यायाम के लिए फिटनेस सेंटर का भी निर्माण किया जाएगा जिसकी कुल क्षमता 500 लोगों की होगी।

यही नहीं सिगरा स्टेडियम में तीन तलीय ऐरीना में तरणताल, फिटेनस सेंटर के अतिरिक्त बैडमिंटन के लिए 15 कोर्ट, टेबल टेनिस के लिए 18 कोर्ट, कराटे के दो, जूडो के लिए छह कोर्ट बनेंगे। वहीं, आउटडोर में 800 मीटर का जॉगिंग ट्रैक, बास्केटबाल, क्रिकेट, कबड्डी, फुटबॉल और 800 मीटर के सिंथेटिक ट्रैक का निर्माण भी होगा।

अधिक जानकारी हेतु आपको बता दें कि यह परियोजना लगभग 6 महीने के विलंब से चल रहा है। वाराणसी में इस परियोजना की सूचना व चर्चा पिछले वर्ष से ही है। अपनी ओर से बता दें कि स्मार्ट सिटी के अंतर्गत सिगरा के डॉ. संपूर्णानंद स्पोर्ट्स स्टेडियम के कायाकल्प के लिए कार्य बीते दिसंबर माह से ही आरंभ हो गया है। इसके अंतर्गत निर्माण क्षेत्र की घेराबंदी कर दी गई थी जिसके भीतर पुरानी भवन के ध्वस्तीकरण कार्य होना था। इसके पश्चात अगले वर्ष जनवरी में प्रधानमंत्री द्वारा इसके शिलान्यास करने की सूचना मिली थी परंतु यह अब हो रहा है।

वर्तमान परिस्थिति की जानकारी देने हेतु बता दें कि इस परियोजना में स्टेडियम के पिछले भाग में तरणताल के दक्षिण में स्थित पुराने भवन को ध्वस्त करने का कार्य जोरों पर है। बीते एक माह से पाइलिंग (जमीन की भार क्षमता की जांच) का काम चल रहा है। तथा इसके बाहर में बैरिकेडिंग लोहे की टिन शेड किया गया है।

Varanasi Sigra Stadium Drone View

अधिक जानकारी हेतु बता दें कि इस कार्य में MHPL नामक कंपनी द्वारा कार्य संचालित है तथा अधिकारीयों से बात करने पर जानकारी मिली कि इस परियोजना पर वर्तमान में प्रथम चरण के लिए कार्य संचालित है। तथा यह भी बता दें कि इस पूरे सिगरा स्टेडियम का क्षेत्रफल 15 एकड़ में विस्तारित है।

बता दें कि इस परियोजना के निर्माण स्थल पर कई पेड़ को काटे जाने को लेकर वन विभाग से स्वीकृति की प्रक्रिया चल रही है। वन विभाग से स्वीकृति मिलने के पश्चात स्टेडियम में उपस्थित दो दर्जन से अधिक पेड़ों की कटाई होगी, जिनके क्षतिपूर्ति हेतु 10 गुना पौधरोपण किया जाएगा। 

बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के जुलाई में प्रस्तावित काशी दौरे के लिए जिला प्रशासन तैयारियों में जुट गया है।

अगले माह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी वाराणसी के खिलाड़ियों को कई सौगत देने वाले हैं। लालपुर स्थित डॉ. भीमराव आंबेडकर क्रीड़ा संकुल के सिंथेटिक ट्रैक का लोकार्पण और सिगरा स्टेडियम में अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम का शिलान्यास मुख्य हैं। लालपुर स्टेडियम में भी सिंथेटिक ट्रैक और बास्केटबॉल कोर्ट तैयार हो गया है।

उच्च पदस्थ सूत्रों की मानें तो प्रधानमंत्री नमो घाट पर भी आयोजित एक बडे़ आयोजन में सम्मिलित होंगे और यही से काशी को नई पहचान देने वाले नमो घाट का लोकार्पण करेंगे।
इस दौरे में पीएम मोदी लगभग दो दर्जन से अधिक परियोजनाओं का लोकार्पण और एक दर्जन से अधिक परियोजनाओं का शिलान्यास करेंगे।

Also Read
PM मोदी की वाराणसी में बना विश्व का सबसे आधुनिक हिन्दू घाट

यूपी के सबसे लम्बे एक्सप्रेसवे पर सामने आई बड़ी खबर

इनमें जिन प्रमुख परियोजनाओं का लोकार्पण होना है वह है- नमो घाट के पहले चरण की परियोजना- चौकाघाट लहरतारा फ्लाईओवर के नीचे नाइट बाजार- दशाश्वमेध घाट पर बनकर तैयार प्लाजा- ग्रामीण इलाके में बने दमकल स्टेशन इनके अतिरिक्त जिन परियोजनाओं का शिलान्यास होना है वह है- कैंट से गोदौलिया के बीच प्रस्तावित रोपवे- रामनगर से पड़ाव के बीच रिवर फ्रंट परियोजना- काशी विश्वनाथ धाम को जोड़ने वाला पैडस्ट्रियन ब्रिज – सिगरा स्टेडियम में मल्टीपल इंडोर स्टेडियम

बता दें कि वाराणसी में सिगरा के अतिरिक्त एक और क्रिकेट स्टेडियम बनाने के लिए भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) ने सैद्धांतिक स्वीकृति भी दे दी है। अब अति शीघ्र बीसीसीआई के क्रिकेट पदाधिकारी वाराणसी का दौरा करेंगे।

बता दें, इस स्टेडियम का निर्माण बीसीसीआई अपने खर्च पर करवाएगा। कानपुर ग्रीन पार्क व इकाना लखनऊ स्टेडियम के पश्चात यूपी में यह तीसरा क्रिकेट स्टेडियम होगा। जबकि बीसीसीआई का पहला स्टेडियम होगा। अधिकारियों के अनुसार, इस साल के अंत तक बीसीसीआई और राज्य सरकार के बीच स्टेडियम निर्माण को लेकर करार हो जाएगा। इससे पहले राज्य सरकार ने क्रिकेट स्टेडियम बनवाने के लिए जमीन खरीदारी को 95 करोड़ रुपए आवंटित किए हैं।

महत्वपूर्ण है कि वाराणसी में अंतरराष्ट्रीय स्टेडियम बनने से पूर्वी भारत के खेल को बढ़ावा मिलेगा। पूर्वांचल के खिलाड़ियों को मंच मिलना सरल होगा। आशा है कि, अगले तीन से चार वर्ष में स्टेडियम बनकर के तैयार भी हो जाएगा।

मित्रों यदि उपरोक्त दी हुई सिगरा स्टेडियम की जानकारी आपको पसंद आई हो तो कमेंट बाॅक्स में हर हर महादेव अवश्य लिखें।

अधिक जानकारी के लिए वीडियो देखें:

वीडियो

Leave a Reply

Your email address will not be published.